Posted in Current Issue

लौहित्य साहित्य सेतु (লৌহিত্য সাহিত্য সেতু): Issue 06, January-June, 2023

Continue Reading... लौहित्य साहित्य सेतु (লৌহিত্য সাহিত্য সেতু): Issue 06, January-June, 2023
Posted in Fifth Issue: Year: 3, Issue: 5; January-June, 2022

लौहित्य साहित्य सेतु (লৌহিত্য সাহিত্য সেতু) : पाँचवाँ अंक

Continue Reading... लौहित्य साहित्य सेतु (লৌহিত্য সাহিত্য সেতু) : पाँचवाँ अंक
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

इस अंक में(এই শিতানত)

Continue Reading... इस अंक में(এই শিতানত)
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

1. अकेले की मुक्ति संभव नहीं(आलेख) ✍ मधु कांकरिया

जब जब स्त्री मुक्ति की बात आती है, जेहन में कई स्त्रियाँ कौंध जाती है। खेत खलिहान में काम करती स्त्री,पीठ पर बच्चा, हाथ में…

Continue Reading... 1. अकेले की मुक्ति संभव नहीं(आलेख) ✍ मधु कांकरिया
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

2. उपन्यास की प्राणधारा(आलेख) ✍ भरत प्रसाद

उपन्यास का जन्म ही यथार्थ की अभिव्यक्ति की पीड़ा से हुआ है। यथार्थवाद, आधुनिकता और उपन्यास एक दूसरे से आत्मवत् जुड़े हुए हैं । इसीलिए…

Continue Reading... 2. उपन्यास की प्राणधारा(आलेख) ✍ भरत प्रसाद
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

3. मेच्चु(आलेख) ✍ जुन देउरी

असमीया  समाज में मनाये जानेवाले जातीय उत्सव ‘बिहु’ को देउरी संप्रदाय में ‘मेच्चु’ या ‘बिचु’ कहते हैं। बिहु  नाम सुनते ही मन एक अलग ही…

Continue Reading... 3. मेच्चु(आलेख) ✍ जुन देउरी
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

4. गोवालपरीया लोकगीतों में समाज जीवन का चित्रण(आलेख) ✍ हिमाश्री डेका

साहित्य समाज जीवन का आइना है। मौखिक और लिखित दोनों साहित्य के जरिए  समाज जीवन का नान्दनिक रूप अभिव्यक्त होता है । इसीलिए किसी एक…

Continue Reading... 4. गोवालपरीया लोकगीतों में समाज जीवन का चित्रण(आलेख) ✍ हिमाश्री डेका
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

5. अदब की दुनिया में ‘तन्हाइयों का रक्स’ (आलेख) ✍ अंशु सारडा ‘अन्वि’

यह अदब की दुनिया है, इस अदब की दुनिया में एक लंबी फेहरिस्त है शायरों, कवियों की। कुछ वाकई सरस्वती के सच्चे साधक होते हैं…

Continue Reading... 5. अदब की दुनिया में ‘तन्हाइयों का रक्स’ (आलेख) ✍ अंशु सारडा ‘अन्वि’
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

6. आक्षेप(कहानी) ✍ मैत्रेयी पुष्पा

जब रुकमपुर के लिए मुझे तबादले का ऑर्डर मिला तो मैं बौखला-सा गया था । उस गाँव का नाम सुनते ही बरसों से समेटा मन…

Continue Reading... 6. आक्षेप(कहानी) ✍ मैत्रेयी पुष्पा
Posted in Fourth Issue: Year: 3, Issue: 4; January-June, 2022

7. कोलाज : थर्टी फर्स्ट(कहानी) ✍ रीतामणि वैश्य

आफिस से घर वापस आते हुए वह वाइन शॉप से होकर आया। महीने की अंतिम तारीख थी, तंख्वाह आ चुकी थी। उसने वाइन की एक…

Continue Reading... 7. कोलाज : थर्टी फर्स्ट(कहानी) ✍ रीतामणि वैश्य